Friday, August 6, 2021
Homeदेशजब गंगा में बह रही थीं लाशें तब कहां थे पीएम-प्रमोद तिवारी

जब गंगा में बह रही थीं लाशें तब कहां थे पीएम-प्रमोद तिवारी

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता प्रमोद तिवारी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि जब कोरोना काल में मां गंगा में हजारों लाशें बह रही थीं तब पीएम मोदी यहां क्यों नहीं आए? आज जब चुनाव नजदीक हैं तो पीएम मोदी को यहां की याद आ रही है.

प्रतापगढ़ । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज जब अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी के दौरे पर आ रहे हैं तो पीएम मोदी के वाराणसी दौरे को लेकर पूर्व राज्यसभा सांसद व कांग्रेस के वरिष्ठ नेता प्रमोद तिवारी ने निशाना साधा है. प्रमोद तिवारी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जब वाराणसी से लोकसभा चुनाव जीता था तो कहा था कि उन्हें मां गंगा ने बुलाया है, लेकिन कोरोना काल में यहां मां गंगा में हजारों लाशें बह रही थीं तब प्रधानमंत्री क्यों नहीं आए? अब जब यूपी में चुनाव नजदीक हैं तो प्रधानमंत्री को यहां की याद आ रही है.प्रमोद तिवारी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर साधा निशाना.

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के वाराणसी दौरे को लेकर विपक्षी पार्टियां हमलावर हैं. इसी क्रम में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व पूर्व राज्यसभा सांसद प्रमोद तिवारी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर जमकर हमला बोला है. प्रमोद तिवारी ने कहा कि वाराणसी प्रधानमंत्री का संसदीय क्षेत्र है. एक सांसद के नाते उन्हें यहां आना भी चाहिए. लोकसभा चुनाव के समय पीएम मोदी ने उत्तर प्रदेश को चुना, मां गंगा मैया को चुना. चुनाव जीतने के बाद पीएम मोदी ने कहा था कि, ‘मुझे मां गंगा ने बुलाया है. इसलिए मैं यहां आया हूं’.

प्रमोद तिवारी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अपनी यह बात याद नहीं रही. यूपी में कोरोना काल में गंगा मैया में हजारों लाशें बह रही थीं, प्रधानमंत्री को दम तोड़ती सांसें बुला रही थीं, उनके परिवारीजन बुला रहे थे. यहां कोरोना से लाखों लोग पीड़ित थे तब प्रधानमंत्री क्यों नहीं आए? जब वैक्सीनेशन, दवाओं के अभाव में उत्तर प्रदेश में लाखों लोग मर गए थे, पैरामेडिकल स्टाफ कमी के कारण अस्पतालों में ताले लग गए थे तब प्रधानमंत्री क्यों नहीं आए?

प्रमोद तिवारी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ‘आयुष्मान भारत’ योजना का बखान करते फिरते हैं. न जाने कितने लोग उस आयुष्मान कार्ड के भरोसे कोरोना काल में इलाज के लिए अस्पतालों में गए, लेकिन उन कार्डों को स्वीकार ही नहीं किया गया. परिजन अपना घर, सामान, जमीन सब बेचकर अपनों का इलाज करा रहे थे. उस समय इस अव्यवस्था का जिम्मेदार कौन था?

प्रमोद तिवारी ने कहा कि आज प्रधानमंत्री यूपी में इसलिए आ रहे हैं, क्योंकि यहां चुनाव नजदीक हैं. अब प्रधानमंत्री को यहां की याद आ रही है. प्रमोद तिवारी ने कहा कि उत्तर प्रदेश की जनता बदलाव करना जानती है, बगावत करना जानती है. यूपी वाले अहिंसा के पुजारी हैं, लेकिन दिमाग से खाली नहीं हैं. इस विधानसभा चुनाव में भाजपा उत्तर प्रदेश सबसे गहरी चोट खाने के लिए तैयार रहे. अब भाजपा के झूठे वादे पर विश्वास करने वाले लोग उत्तर प्रदेश में नहीं हैं.

वहीं प्रमोद तिवारी ने योगी सरकार पर भी जमकर निशाना साधा. ब्लॉक प्रमुख चुनाव के दौरान जिस तरीके से लखीमपुर खीरी जिले में एक महिला के साथ दुर्वव्यहार किया गया था, उस पर प्रमोद तिवारी ने कहा कि इस सरकार के खिलाफ जो बोले वह देशद्रोही हो जाता है. इस सरकार के खिलाफ जो आवाज उठाएं, वह हिंसा का शिकार हो जाता है. एक बहन परिचय प्रस्तावक के रूप में जा रही थी. महाभारत की द्रौपदी की तरह उसका चीरहरण किया गया और वहां खड़ी खाकी देखती रही. उत्तर प्रदेश की जनता यह सब देख रही है. चुनाव में इन सबका जवाब जनता देगी.

Share This News
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Most Popular

Share This News