Friday, September 17, 2021
Homeलीडर विशेष2022 बहाना - 2024 निशाना : 6 महीने में बदल दिए...

2022 बहाना – 2024 निशाना : 6 महीने में बदल दिए चार क्षत्रप

ईमानदार और निड़र पत्रकारिता के हाथ मजबूत करने के लिए विंध्यलीडर के यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब और मोबाइल एप को डाउनलोड करें

अगले साल सात राज्यों में चुनाव होने हैं. जिन राज्यों में पहले से ही बीजेपी की सरकार है, वहां पार्टी मजबूत क्षत्रप रखना चाहती है. क्योंकि 2022 विधानसभा चुनाव ही 2024 की राह तय करेगा. इसी का नतीजा है कि बीजेपी ने उत्तराखंड, कर्नाटक के बाद अब गुजरात में सीएम बदला है, ताकि 2022 के चुनाव में मजबूत चेहरे के सहारे कमल खिला सकें और यह कमल 2024 में भी कमाल दिखा सके. क्योंकि बीजेपी अभी से 2024 की तैयारी में जुट गई है.

नई दिल्ली गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने राज्यपाल आचार्य देवव्रत से मिलकर उन्हें अपना इस्तीफा सौंप दिया. इसके साथ ही गुजरात में राजनीतिक हलचल काफी तेज हो गई है. बता दें कि रूपाणी ने विधानसभा चुनाव से 15 महीने पहले यह बड़ा फैसला लिया. इस दौरान रूपाणी ने कहा कि पार्टी में समय के साथ दायित्व बदलते रहते हैं. बीजेपी में यह स्वभाविक प्रक्रिया है. ऐसे में सवाल कि आखिर क्या कारण रहे हैं, जिसके चलते विजय रुपाणी को सीएम पद छोड़ना पड़ा. वहीं छह महीने में तीन राज्यों के सीएम बदले गए हैं.

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में मुंह की खाने के बाद बीजेपी ने अपनी रणनीति में बड़ा बदलाव किया है. अगले साल सात राज्यों में चुनाव होने हैं. जिन राज्यों में पहले से ही बीजेपी की सरकार है, वहां पार्टी मजबूत क्षत्रप रखना चाहती है. क्योंकि 2022 विधानसभा चुनाव ही 2024 की दशा और दिशा तय करेगा.

इसी का नतीजा है कि बीजेपी ने उत्तराखंड, कर्नाटक के बाद अब गुजरात में सीएम बदला है, ताकि 2022 के चुनाव में मजबूत चेहरे के सहारे कमल खिला सकें और यह कमल 2024 में भी कमाल दिखा सके. क्योंकि बीजेपी अभी से 2024 की तैयारी में जुट गई है.

बीजेपी को मजबूत क्षत्रप चाहिए

बताया जा रहा है कि बीजेपी ने अंदरखाने एक सर्वे कराया है, सर्वे के आधार पर ही इस बदलाव को देखा जा रहा है. बीजेपी शासित राज्य में सीएम की सियासत में कमजोरी या विरोध के कारण कुर्सी गंवानी पड़ी. चूकिं 2022 विधानसभा चुनाव नजदीक है ऐसे में बीजेपी को अब राज्य में मजबूत नेतृत्व की जरूरत है, जिसके दम पर राज्य के चुनावी नैया पार हो सके. बीजेपी विधानसभा चुनाव में पीएम मोदी के चेहरे को आगे नहीं करना चाहती है, बल्कि राज्य के नेतृत्व के दम पर चुनाव लड़ना चाहती है.

उत्तराखंड में बदले दो सीएम

साल 2017 के चुनाव में उत्तर प्रदेश में बीजेपी ने रिकॉर्ड तोड़ जीत दर्ज की थी. कहा यह भी जाता है कि दिल्ली की सत्ता उत्तर प्रदेश से ही तय होती है. पिछली बार यहां बीजेपी को 312 सीटों पर जीत मिली थी. उत्तराखंड की बात करें तो इस साल मार्च में यहां बीजेपी ने अपना सीएम बदला था. त्रिवेंद्र सिंह रावत को सीएम के पद से हटा कर तीरथ सिंह रावत को कमान दी गई.

फिर तीरथ सिंह रावत से कमान लेकर पुष्कर सिंह धामी को कमान दी गई. पिछली बार यहां बीजेपी को 57 सीटों पर जीत मिली थी. मणिपुर में भी साल 2022 में विधानसभा चुनाव आयोजित होने हैं. फिलहाल 60 विधानसभा सीटों वाले मणिपुर में भाजपा सत्ता में है. मणिपुर में 19.58 लाख वोटर्स हैं. गोवा में 11.45 लाख मतदाता हैं.

पंजाब में चुनौती

40 विधानसभा सीटों वाले गोवा में फिलहाल भारतीय जनता पार्टी की सरकार है. पंजाब में फिलहाल कांग्रेस की सरकार है. पिछली बार यहां बीजेपी गठबंधन को करारी हार का सामना करना पड़ा था. कांग्रेस को 77 सीटों पर जीत मिली थी. जबकि दूसरे नंबर पर आम आदमी पार्टी रही थी. बीजेपी और SAD गठबंधन को सिर्फ 15 सीटों पर जीत मिली थी. इस बार बीजेपी और SAD का गठबंधन टूट गया है.

गुजरात की बात करें तो पिछले चुनाव में यहां बीजेपी को 99 सीटों पर जीत मिली थी. कांग्रेस ने 77 सीटों पर जीत दर्ज कर बीजेपी को टक्कर दी थी. वहीं हिमाचल प्रदेश में भी बीजेपी की सरकार है. साल 2017 में बीजेपी को 44 सीटों पर जीत मिली थी. कांग्रेस को सिर्फ 21 सीटों से संतोष करना पड़ा था.

अगले साल इन राज्यों में होने हैं चुनाव

  • उत्तर प्रदेश
  • उत्तरांखड
  • मणिपुर
  • गोवा
  • पंजाब
  • गुजरात (2022 दिसंबर संभावित )
  • हिमाचल प्रदेश (2022 दिसंबर संभावित )
Share This News
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Most Popular

Share This News