Saturday, October 16, 2021
Homeशिक्षाराजकीय इंटरमीडिएट कॉलेज गुरमुरा परिसर की ग्रामीणों ने की साफ-सफाई। जिलाधिकारी से...

राजकीय इंटरमीडिएट कॉलेज गुरमुरा परिसर की ग्रामीणों ने की साफ-सफाई। जिलाधिकारी से तत्काल सुरक्षा व सफाई कर्मी के नियुक्ति की मांग।

.डाला सोनभद्र। पिछले चार साल से बन कर तैयार होने के बाद भी बंद पड़े राजकीय इंटरमीडिएट कॉलेज गुरमुरा के बंद होने व शासन प्रशासन द्वारा इसे गंभीरता से न लिए जाने व कालेज के प्रति उदासीन रवैया अपनाने व कालेज न खोले जाने से ग्रामीणों में जहां रोष है वहीं दूसरी तरफ कॉलेज परिसर की साफ सफाई न होने से पूरा कॉलेज परिसर पूरी तरह से झाड़ियों, झंखाड में तब्दील होने से नाराज ग्रामीणों ने डॉ ए के गुप्ता (युवा समाजसेवी) के नेतृत्व में स्थानीय ग्रामीणों, पत्रकारों के सहयोग से पूरे कॉलेज परिसर की साफ सफाई की। युवा समाजसेवी डॉ ए के गुप्ता ने कहा कि 4 सालों से बंद पड़े राजकीय इंटरमीडिएट कॉलेज गुरमुरा का बंद होना बहुत ही गंभीर व चिंता का विषय है। यह वर्तमान शासन प्रशासन एवं जनप्रतिनिधियों के कारनामे की पूरी तरह से पोल खोलता है। ग्रामीणों द्वारा बार-बार सांसद, विधायक, जिलाधकारी, बेसिक शिक्षा अधिकारी, जिला प्रभारी मंत्री से इसे खुलवाने का अपील किया गया कि बंद पड़े राजकीय इंटरमीडिएट कॉलेज को तत्काल खोला जाए।

लगभग 25 किलोमीटर के अंतर्गत एक भी सरकारी राजकीय इंटरमीडिएट कॉलेज के न होने के वजह से क्षेत्र के निवासी व आदिवासी बच्चों को शिक्षा ग्रहण करने में काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। सरकार द्वारा शिक्षा के क्षेत्र में जहां बढ़ावा देने की बात कही जा रही है कॉलेज खोले जा रहे हैं। वहीं सरकार द्वारा साडे चार साल की उपलब्धि गिनाई जा रही है वहीं दूसरी तरफ विद्यालय का बंद पड़ा होना विभागीय अधिकारियों के कारनामे की पोल खोलता है। इतना बड़ा कॉलेज बने होने के बाद भी न परिसर के साफ-सफाई की सुरक्षा, न कोई सुरक्षा गार्ड, न कोई सफाई कर्मी है.? पूरी तरह से कालेज परिसर झाड़ियों एवं कबाड़ के रूप में तब्दील है।

कॉलेज परिसर को झाड़ियों में तब्दील होता देख स्थानीय ग्रामीणों, पत्रकारों के सहयोग से पूरे कॉलेज परिषद की आज साफ सफाई की गई ताकि कालेज परिसर साफ सुथरा बना रहे। क्योंकि विद्यालय को शिक्षा का मंदिर कहा जाता है।

मुख्यमंत्री, शिक्षा मंत्री, जिला प्रशासन, बेसिक शिक्षा अधिकारी से मांग किया कि कालेज परिसर की साफ-सफाई सुरक्षा हेतु तत्काल गार्ड एवं सफाई कर्मी की नियुक्ति की जाए। कॉलेज में तत्काल टीचरों की नियुक्ति कर तत्काल कॉलेज का संचालन शुरू हो। जनपद दौरे के दौरान जिला प्रभारी मंत्री ने वार्ता के दौरान आश्वासन दिया है कि इस शस्त्र से विद्यालय का संचालन शुरू करा दिया जाएगा।

ग्रामीण राजेश पटेल ने कहा कि कॉलेज का बन कर बंद पड़ा होना, विभागीय अधिकारियों द्वारा साफ-सफाई सुरक्षा हेतु पहल न किया जाना, कॉलेज का न खुलना इस आदिवासी क्षेत्र के लोगों के साथ एक बड़ा धोखा है, ग्रामीणों में काफी आक्रोश व्याप्त है, कालेज परिसर का साफ-सफाई न होता देख ग्रामीणों ने मिलकर आज पूरे कालेज परिसर मे जमे झाड़, झंकार को पूरी तरह से साफ सफाई का निर्णय लेते हुए ग्रामीणों ने पूरे कॉलेज परिसर की साफ सफाई की। कॉलेज परिसर की साफ सफाई हो जाने से कॉलेज परिसर काफी अच्छा लग रहा है। मुख्यमंत्री, जिला अधिकारी से मांग है कि तत्काल पहल करते हुए कॉलेज का संचालन शुरू कराया जाए ताकि इस क्षेत्र के गरीब आदिवासी के बच्चों को शिक्षा दीक्षा लेने में आसानी हो सके। कॉलेज परिसर के सफाई के दौरान ग्रामीण लल्लू दुबे, रामाधार गुप्ता, राजेश पटेल, शिव कुमार दुबे, रामप्यारे, सोमारू, दयाराम, हनुमान पटेल, मोहन, रामाशंकर, विनय कुमार, मेवालाल, प्रह्लाद दुबे, रविंद्र, कमला गुप्ता, गुलाब, राजकुमार के अलावा पत्रकार सनोज तिवारी, मिथिलेश भारद्वाज, अभिषेक शर्मा, संजय केसरी आदि लोग उपस्थित रहे।

Share This News
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Most Popular

Share This News