Monday, September 20, 2021
Homeराजनीतिप्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न वितरण योजना का हुआ शुभारंभ

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न वितरण योजना का हुआ शुभारंभ

विपक्षी पार्टियों ने कहा यह सरकारी धन से आगामी विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा के प्रचार प्रसार की योजना है

सोनभद्र । सदर विधायक भूपेश चौबे ने बृहस्पतिवार को बेठिगांव ग्राम पंचायत स्थित सरकारी राशन की दुकान पर प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना का शुभारंभ किया । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत कार्ड धारकों को मुफ्त राशन लेने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ व प्रधानमंत्री की फोटो युक्त झोले में कार्डधारकों में अनाज वितरित किया गया ।

विधायक ने कहा कि पांच अगस्त का दिन खास है इस दिन भारतीय सैनिकों ने पाकिस्तान की सीमा में सर्जिकल स्ट्राइक कर पाकिस्तानी दहशतगर्दो को मार गिराया था । पांच अगस्त को ही जम्म कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाया गया था । पिछले वर्ष 5 अगस्त को ही नरेंद्र मोदी ने श्रीराम जन्मभूमि अयोध्या में श्रीराम मंदिर निर्माण की आधारशिला भी रखी थी। इसीलिए इस दिन को खास बनाने के लिए सरकार अन्न दिवस के रूप में मना रही है ।

इस दौरान कार्डधारकों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का लाइव प्रसारण भी सुना । उक्त अवसर पर सरकार द्वारा चलाई जाने वाली विभिन्न योजनाओं के बारें में जानकारी दी गई । इस मौके पर ग्राम प्रधान प्रतिनिधि व भाजपा मीडिया प्रभारी अनूप तिवारी , संतोष शुक्ला , कोटेदार बबलू केशरी , तेजबली , हरिगोविंद चौबे , बीडीसी योगेश कुमार मौर्य सहित बड़ी संख्या में कार्डधारक मौजूद रहे।

ग़ौरतलब है कि प्रधानमंत्री द्वारा गरीब कल्याण योजना के तहत बटने वाले अनाज के बाबत विपक्षी पार्टियों ने अपना विरोध जताते हुए कहा कि यह सरकारी धन से भाजपा पार्टी के प्रचार की योजना है। कांग्रेस पार्टी के जिलाध्यक्ष रामराज गोड़ ने कहा कि यह कोई नई योजना तो है नहीं बल्कि यह तो पिछले वर्ष से ही चल रही है अब केवल प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री की फोटो युक्त एक झोला दे देने से गरीब का कौन सा कल्याण होने वाला है?यह तो गरीबो की गरीबी का खुलेआम मजाक उड़ाया जा रहा है। सवाल यह भी है कि जब चावल व गेंहू दो तरह के अन्न का वितरण होना है तो गरीबो को सिर्फ एक झोला देने का क्या औचित्य है ?जब कार्ड धारक को अनाज लेने के लिए अपने घर से कम से कम एक झोला लेकर ही जाना पड़ेगा क्योंकि दोनों अनाज वह सरकार के एक ही झोले में तो ले नही सकता ,ऐसे में सरकार की यह फोटो युक्त झोला देने की योजना केवल सरकारी धन से अगले विधानसभा चुनाव के प्रचार के सिवा और कुछ भी नहीं है।

Share This News
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Most Popular

Share This News