Saturday, October 16, 2021
Homeधर्मनवरात्र 2021 : मां दुर्गा के सप्तम रूप मां कालरात्रि की उपासना...

नवरात्र 2021 : मां दुर्गा के सप्तम रूप मां कालरात्रि की उपासना आज

ईमानदार और निड़र पत्रकारिता के हाथ मजबूत करने के लिए विंध्यलीडर के यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब और मोबाइल एप को डाउनलोड करें

नवरात्र (Navratri) के सप्तमी (Saptmi) के दिन मां कालरात्रि (Maa kalratri) की विशेष पूजा की जाती है. यह दिन तांत्रिक (Tantrik) वर्ग के लिए विशेष होता है. इस दिन मां कालरात्रि (Maa kalratri) के साथ शिव (Shiva)और ब्रह्मा (Brahma) की भी उपासना की जाती है.

उषा वैष्णवी

सोनभद्र । मूल नक्षत्र, शोभन योग और ववकरण में मां दुर्गा के सप्तम रूप मां कालरात्रि की आज पूजा-उपासना की जाएगी. कालरात्रि का स्वरूप बहुत ही भयंकर है. भूत-प्रेत-पिशाच सभी माता से कांपते हैं. कहते हैं कि मां कालरात्रि की पूजन करने से ग्रह बाधा दूर होती है और अग्नि जल से भय नहीं रहता.

जो भक्त नियम और संयम का पालन करते हुए मां कालरात्रि का पूजन-अनुष्ठान करते हैं, उनकी कामनाएं स्वतः ही पूर्ण होती है. इस दिन तांत्रिक वर्ग विशेष पूजन करते हैं. इस दिन किया हुआ तंत्र सिद्ध होता है. माता कालरात्रि के साथ शिव और ब्रह्मा की भी उपासना पूजन करने का विधान है. अनेक स्थानों पर मदिरा भी कालरात्रि देवी को श्रद्धा के साथ अर्पित किया जाता है.

वहीं, प्रख्यात ज्योतिषाचार्य ने बताया कि इस दिन मां कालरात्रि की पूजा बेहद फलदाई मानी गई है. माता कालरात्रि जो कि काल का भी नाश करने वाली है, मां दुर्गा का यह स्वरूप दानवों का नाश करने वाला माना गया है. रक्तबीज नाम के दानव का वध करने के लिए माता ने यह स्वरूप धारण किया. माता का यह स्वरूप बेहद ही भयभीत करने वाला है. मां कालरात्रि का रंग काली रात से भी काला है, मां के लंबे लंबे बाल बिखरे हुए हैं, उनकी चार भुजाएं और तीन नेत्र हैं मां की सवारी गधा है.

शक्ति उपासक करते हैं देवी का अनुष्ठान

वहीं, माता कालरात्रि की ऊपर की दाहिनी भुजा वर प्रदान करने वाली है. नीचे की दाहिनी भुजा तलवार और कटीले मुसल को धारण किए हुए हैं. माता के केशपूरी तरह खुले हुए हैं. क्रोध में नासिका से अग्नि धधकती है. चंडमुंड और शुम्भ निशुंभ जैसे आतताई राक्षसों का संहार माता कालरात्रि ने किया है.

शक्ति के उपासक इस दिन देवी का अनुष्ठान के साथ पूजा किया जाता है. माता को सिद्ध करने पर पिंगला नाड़ी सिद्ध हो जाती है. माता को लाल गुलहड़ के फूल की माला बहुत प्रिय है. संध्या के समय माता को खिचड़ी का भोग लगाया जाता है.

सप्तमी का दिन मां कालरात्री को समर्पित

आश्विन शुक्ल पक्ष की सप्तमी का शुभ दिन माता कालरात्रि के लिए समर्पित है. सुबह 7:30 बजे से 9:00 बजे तक दोपहर में 12:00 से 1:30 तक दोपहर 1:30 से 3:00 तक और उसके बाद दोपहर 3:00 बजे से सायकाल 4:30 बजे तक अमृत चौघड़िया में देवी की उपासना पूजन करने का शुभ मुहूर्त है.

माता कालरात्रि को शुभंकरी देवी भी कहते हैं. माता का वर्ण काजल के समान श्यामल माना गया है.सप्तमी के दिन मां की विशेष पूजा से महान फल की प्राप्ति ही नहीं बल्कि सिद्धि भी मिलती है.

Share This News
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Most Popular

Share This News